How to apply No Contact Rule in Perfect Way? (Hindi) » Love Define

How to apply No Contact Rule in Perfect Way? (Hindi)

अनुक्रम दिखाएँ

नो कॉन्टेक्ट रूल:

आपने बहुत लोगों से सुना होगा कि जब गर्लफ्रेंड से लड़ाई या breakup हो गया हो तो उसे कोई कॉन्टेक्ट मत करिये लेकिन वह पूरा नहीं बताते कि यह rule कब अप्लाई करना चाहिए या कब नहीं अप्लाई करना चाहिए, कहाँ अप्लाई करना चाहिए और कहाँ नहीं करना चाहिए.

आज हम इसी पे पूरी detail में बात करेंगे कि no contact rule कब, कहाँ, कैसे और कब तक फॉलो करना चाहिए.

तो सबसे पहले बात करते हैं कि यह होता क्या है.

No Contact Rule क्या है?

सभी रिलेशनशिप में लड़ाईयां होती रहती हैं, लेकिन कई बार हालात ऐसे बन जाते हैं कि लड़ाईयां breakup में बदल जाती हैं और उस समय जो दर्द होता है उस्से दिमाग काम करना बंद कर देता है और वियक्ति उलटी-सीधी हरकतें करने लगता है.

लेकिन उस समय कुछ उल्टा-सीधा करने की बजाये गर्लफ्रेंड को कोई भी कॉन्टेक्ट नहीं करना चाहिए, उसे थोडा समय देना चाहिए. घाव को ठीक होने में कुछ समय तो लगता ही है. तो इसलिए यह rule फॉलो करना चाहिए.

No contact rule को अप्लाई करने से पहले कुछ बातें समझ लो

आपकी गर्लफ्रेंड/बॉयफ्रेंड से ब्रेकअप होने के बाद आपका दोस्त बोलता है कि उसे कॉन्टेक्ट करना, message करना बंद कर दो और आप सिर्फ उसकी बात मान के यह रूल फॉलो करने लग जाते हो बिना कुछ जाने और समझे. क्योंकि आपके रिश्ते को सिर्फ आप ही बेहतर जानते हो, आपका दोस्त नहीं.

इसलिए इसे फॉलो करने से पहले कुछ चीजें आपको अच्छे से समझ लेनी चाहिए नहीं तो कोई फ़ायदा नहीं होगा. जैसे maths में एक ही रूल हर जगह नही काम करता वैसे ही यह हर रिलेशनशिप में काम नहीं करता.

1. Bond

no contact rule hindi

सबसे पहले आपको देखना होगा कि आप दोनों के बीच bond कैसा था, कितना स्ट्रोंग था. आप दोनों के बीच intimacy कैसी थी, केवल physical intimacy नहीं, दोनों के बीच emotional intimacy कैसी थी. आप लोग emotionally एक दूसरे से कितना कनेक्टेड थे, कितना समझते थे एक दुसरे को, कितना प्यार था, value-system कैसा था रिलेशनशिप का, रिलेशनशिप का गोल क्या था, यह सारी चीजें matter करती हैं.

तो अगर आप दोनों के बीच ऐसा कुछ था ही नहीं, bond अच्छा नहीं था, आप दोनों के बीच कोई connection ही नहीं था, deep-connection की तो बहुत दूर की बात. आप लोग सिर्फ लड़ते रहते थे, कभी बनी ही नहीं, कभी साथ में कोई अच्छे पल बिताये ही नहीं है, कभी अच्छा समय एक दूसरे को दिया ही नहीं है, quality-time स्पेंड ही नहीं किया कभी.

जब हमारी लड़ाई होती है किसी से तो उस समय हमारे दिमाग में उस इन्सान के प्रति सिर्फ बुरे विचार ही आते हैं लेकिन कुछसमय बाद बुरे विचार खत्म हो जाते हैं और दिमाग अच्छी बातें सोचने लगता है, उस इन्सान के साथ बिताया अच्छा समय सोचने लगता है और यदि आप दोनों ने वो अच्छा समय बिताया ही नहीं है तो फिर भी आप सोच रहे हो कि नो कॉन्टेक्ट रूल काम करेगा तो ऐसा नहीं है मेरे दोस्त.

2. रिलेशनशिप कितने time का था

no contact rule hindi

कुछ लोग बोलते हैं कि उनका रिलेशनशिप 1 महीने का था या 2 महीनों का था, और वो भी सोचते हैं कि नो कॉन्टेक्ट रूल काम करेगा. तो मेरे दोस्त एक deep-connection बनाने में, एक mutual-understanding बनाने के लिए समय लगता है. आप के रिलेशनशिप इतने कम समय का था कि आप एक दुसरे को अच्छे से जान ही नहीं पाए, समझ ही नहीं पाए.

अगर आपका रिलेशनशिप कुछ सालों का था 2 साल, 3 साल तो कुछ ना कुछ तो बात रही होगी आप दोनों में जो इतने लंबे समय तक साथ रहे. कुछ ना कुछ तो emotions build up हुए होंगे.

मतलब यह है कि अगर आपका एक साल का रिलेशनशिप भी था तो depend करता है आप connected कितना रहते थे आपस में, आप की बातें कितनी होती थी रोज़, मिलते कितना थे. तो यह हर रिलेशनशिप पे depend करता है जिस को सिर्फ आप खुद ही समझ और जान सकते हो.

No contact rule कितने समय तक करना चाहिए?

no contact rule hindi

देखिये, अगर आप एक निशचित समय रख के नो कॉन्टेक्ट फॉलो करे जा रहे हो तो यह ठीक नहीं है. आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आप को कब सही समय महसूस होता है. अगर आपका relationship नया था, थोड़े समय का था तो नो कॉन्टेक्ट रूल ज़्यादा लम्बा नहीं होना चाहिए, और अगर relationship लम्बा था तो आप को नो कोन्टक्ट में कम से कम 3 से 6 हफ्तों तक रहना चाहिए.

यह इतना आसान भी नहीं है, किसी अपने से बिना बात करे इतने दिन रहना कठिन है इसीलिए यह उतना असरदार भी है. नो कोन्टक्ट के बाद जब आप अपने partner से बात करो तो ध्यान रहे अपनी feelings को control में रखना, उससे एक positive energy से बात करना. उस को यह कभी मत बोलना के आपने उस को कितना याद किया, कितना रोये आप.

और उसको लगेगा कि आप अभी भी बदले नहीं, आप अभी भी needy हो, desperate हो, उसको खोने से डरते हो. याद रखना ऐसी चीजें बिलकुल नहीं करनी आपको.

क्या long-distance relationship में no contact rule  काम करता है?

no contact rule hindi

जी हाँ! नो कोन्टक्ट रूल long-distance में भी कम करता है, लेकिन आप को धैर्य रखना होगा. ब्रेकअप के बाद short-distance वाले जो गलतियाँ करते हैं, long-distance में वो गलतियाँ करने से बच जाते हैं. तो आप अगर बहुत messages कर चुके हो, बार-बार माफ़ी मांग चुके हो, गिडगिडा चुके हो, desperate हो चुके हो तो कोई बात नहीं.

लेकिन यह बहुत ज़रुरी है कि आप मिले हो एक दुसरे से, अच्छा time spend करा हो.

लड़ाई के समय आपका पार्टनर गुस्से में होता है और तब वो आप की कोई भी बात नहीं सुनना चाहता. उस समय आप जो कुछ मर्ज़ी करलो उसको मनाने के लिए वो आप की आवाज़ तक नहीं सुनना चाहता. उस वक्त उसके दिमाग में आप के लिए सिर्फ बुरे विचार और आप की बुरी आदतें ही चल रही होती हैं,  इसलिए उसे कुछ समय दें.

कुछ समय बाद उस के दिमाग में से आप के प्रति बुरे विचार खत्म हो जाते हैं और अच्छे विचार आने लगते हैं. फिर उस समय आप का पार्टनर आप के साथ बिताये quality time को याद करके आपको miss करने लगता है.

नो कोन्टक्ट में जो आप को समय मिलेगा उस में आपको अपने पार्टनर के बारे में सोच-सोच के परेशान नहीं होना, ऐसा करके आप खुद का ही नुकसान करोगे. इस समय में आपको खुद में जो बुरी आदतें हैं उन्हें  ठीक करना है. आप को खुद पे काम करना है, खुद को बदलना है.

नो कांटेक्ट रूल के फायदे

यदि आप इस रूल को सही तरीके फॉलो करते हैं तो आप को क्या-क्या फायदे हो सकते हैं आईये जानते हैं:

ब्रेकअप के दर्द को सहने के लिए बनाता है मज़बूत

no contact rule hindi

बहुत कठिन होता है ब्रेकअप के दर्द को सहना लेकिन यह और भी ज़्यादा कठिन और मुश्किल हो जाता है जब ब्रेकअप के दौरान आप के पार्टनर का मेसेज या फोन आ जाये, उस समय किसी के लिए भी अपनी भावनायों पर नियंत्रण करना नामुमकिन सा हो जाता है. क्योंकि आप पहले ही उस के बारे में दिन-रात सोच-सोच कर अपनी हालत खराब कर रहे होते हो. इस लिए नो कांटेक्ट रूल को अपनाकर आप अपनी भावनायों पर नियंत्रण करना धीरे-धीरे सीख जाते हो और आप दोनों को एक समय भी मिल जाता है जिस में आप को अपने रिश्ते को और ज़्यादा अच्छे से समझ सकते हैं जिससे आप खुद को मानसिक रूप से मज़बूत बना सकते हैं.

आप का आत्मविश्वास बढ़ाता है नो कांटेक्ट रूल

radio silence kya hai

देखो, रिश्ते बनाना सबको अच्छा लगता है और बनाने भी चाहिए क्योंकि तभी हमें रिश्तों में रहना और रिश्तों को निभाना सीख पाते हैं. हर रिश्ते में  सबसे पहले होता है एक दूसरे का सम्मान करना, लेकिन जिस रिश्ते में आप का कोई सम्मान ना हो और बार-बार सिर्फ धोखे मिल रहे हों, आप को वो रिश्ता तुरंत छोड़ देना चाहिए क्योंकि ऐसे रिश्तों में रह कर आप अपने आत्मविश्वास को ठेस पहुंचाते हैं और आप खुद का ही सम्मान नहीं कर पाते.

लेकिन यह भी सच है कि जब आप ने किसी के साथ समय बिताया होता है तो उस रिश्ते को छोड़ के भी आप का दिमाग उसके बारे में सोचन इतनी जल्दी बंद नहीं कर सकता. इस लिए आप को खुद की भावनायों को मज़बूत बनाते हुए खुद को ऐसे सख्त रूल्स बना कर उन्हें  फॉलो करना चाहिए.

संकलप शक्ति (will power) बढ़ाने में मदद करता है यह रूल

जब आप रिलेशनशिप में होते हो, पार्टनर के साथ बातें करते हो, मिलते हो, अच्छे समय बिताते हो, उस समय आप को यह लग रहा होता है कि आप अपने पार्टनर के बिना रह नहीं सकते क्योंकि आप का पार्टनर आप की रोज़ की दिनचर्या में शामिल हो चुका होता है, इस लिए उस समय आप उससे अलग होने के बारे में सोच भी नहीं पाते क्योंकि आप को लगता है कि आप को उस की ज़रूरत है. लेकिन उस समय आप ये बात भूल रहे होते हो कि दुनिया में कोई भी चीज़ स्थायी नहीं है, लेकिन आप अपने दिमाग में यह बिठा लेते हो कि यह सिर्फ मेरा है और मेरा ही रहेगा.

इस लिए जब किसी वजह से ब्रेकअप होता है तब आप की इस सोच की वजह से आप उस को बार-बार मेसेज या फोन कर-कर के सॉरी बोल रहे होते हो और बहुत ज़्यादा दुखी हो रहे  होते हो और तब आप खुद को संभालने में असमर्थ होते हो. उस समय नो कांटेक्ट रुल अपनाकर जब आप खुद से यह वादा करते हो कि चाहे कुछ भी हो उससे कोई कांटेक्ट नहीं करना और आप ऐसा कर भी पाते हो. इससे  आप खुद की संकलप शक्ति को बड़े असरदार तरीके से बढ़ा सकते हो जो आप को जीवन में सफल होने में भी बहुत मदद करेगी.

आपके पार्टनर को हील होने में मदद करता है no contact rule

देखिये, ब्रेकअप हुआ है तो कोई ना कोई वजह तो ज़रूर रही होगी, कुछ ना कुछ तो ज़रूर हुआ होगा. हो सकता है आप ने कोई गलती की हो जिससे आप का पार्टनर बहुत हर्ट हुआ हो. इस लिए उस समय जब वो आप सेबेहद नाराज़ और गुस्सा हो तो उस को बार-बार कांटेक्ट करके और ज़्यादा दुखी मत करो. क्योंकि उस समय आप जो मर्ज़ी बोल लो लेकिन उसके दिमाग में आप के लिए सिर्फ नकारात्मक विचार ही चल रहे होते हैं इस लिए उस समय वो आप की कोई भी बात नहीं सुनेगा.

इस लिए no contact rule को फॉलो करके आप उससे थोडा समय दें ता कि वो अपना गुस्सा शांत करके खुद को हील कर सके. कुछ समय बाद उसके दिमाग में आप के बारे में चल रहे नकारात्मक विचार खत्म होने लगेंगे और अच्छे विचार आने लगेंगे, जैसे आप ने जो एक साथ समय बिताया, साथ में हसना, साथ में घूमना, एक दूसरे का ख्याल रखना. यह सब उसे याद आने लगेगा और तब उसे एहसास होगा कि आप अच्छे भी हो और सिर्फ छोटी सी गलती पर आप की उन अच्छाइयों को नज़र अंदाज़ नहीं किया जा सकता.

No contact rule खुद की वैल्यू और आत्म सम्मान बढ़ाने में भी मदद करता है

जब कोई प्यार का रिश्ता बनता है तो ये स्वाभाविक है कि उस में एक दूसरे से अपेक्षाएं भी होती हैं और अपने चाहने वाले के लिए जो हमारे लिए खास होता हैम, उस के लिए कई बार हम खुद को बदलने की कोशिश भी करते हैं, लेकिन कई बार यह हो नहीं पाता. परन्तु यह ज़रुरी भी नहीं है कि आप वैसा ही करो जैसा आप का पार्टनर आप से अपेक्षा करता है, क्योंकि हो सकता है आप बिना सोचे वो चीज़ करने में लग जाओ जिससे आप की वैल्यू और आत्म सम्मान कम हो. इसलिए नो कांटेक्ट समय के दौरान आप इन सब बातों पर खुद से विचार कर सकते हो गहरायी से सोच सकते हो.

जिंदगी में आगे बढ़ने में करता है मदद

no contact rule hindi

जब तक आप किसी भी रिश्ते से मानसिक रूप से बाहर नहीं निकल पाते तब तक जिंदगी में आगे नहीं बढ़ सकते. जीवन में नये रिश्ते बनाने के लिए, नई शुरुआत करने के लिए आप को अपना mindset बदलना पड़ेगा परन्तु जब तक आप उस पुराने रिश्ते में फसे रहते हैं तब तक ऐसा नहीं कर सकते. क्योंकि आप उसके बारे में ही सोचते रहते हैं और उससे बात करने के बारे में सोचते रहते हैं,

इस लिए no contact rule से आप को इन सब चीजों से बाहर निकलने में बहुत मदद होगी और आप खुद को एक नई शुरुआत करने के लिए तैयार कर लेते हो, और जिसे पुराने रिश्ते में जो लड़ाईयां-झगड़े हुए थे, नो कांटेक्ट के समय आप इन बातों को गहरायी से सोच सकते हो ताकि भविष्य में बनने वाले रिश्तों में उन सब चीज़ों से बच सको और एक बेहतर रिश्ता बनाये रखो.

खुद को clear करिए कि आप क्या चाहते हैं?

no contact rule kaise kare

ब्रेकअप के बाद आप के पास दो विकल्प होते हैं. पहला यह कि आप अपने एक्स के साथ दोबारा रिश्ते में आना चाहते हो और दूसरा आप ज़िंदगी में आगे बढ़ना चाहते हो. इस लिए ब्रेकअप के बाद खुद को कभी भी दुविधा में मत रखिये, क्योंकि ऐसा करने से आप खुद का बहुत नुकसान कर लेंगे. आप ना ही अपने career पर ध्यान लगा पाएंगे और ना ही कोई काम कर पाएंगे.

तो यदि आप जिंदगी में आगे बढ़ना चाहते हैं तो आप पुराने रिश्ते के बारे में मत सोचिये और अपना समय, उर्जा बचा कर अपने गोल्स पर लगाईये. लेकिन यदि आप को लगता है कि आप दोबारा साथ रह सकते हैं आत्म सम्मान को बरकरार रखते हुए तो तब आप यह no contact rule फॉलो करिये और अपने पार्टनर को बताएं कि हम एक दूसरे को समय देकर, रिश्ते के बारे में अच्छे से सोच कर दोबारा साथ रह सकते हैं.

रिश्ते का महत्त्व बताता है no contact rule

ब्रेकअप के बाद अक्सर आप सोचने लगते हैं कि आप किसी ना किसी तरह से अपने एक्स को मना लेंगे और दोबारा साथ रहने लगेंगे. लेकिन जब आप नो कांटेक्ट रूल अपनाते हो तो आप की मानसिकता में बड़ा बदलाव आने लगता है, आप का मन शांत होने लगता है जो ब्रेकअप के बाद एकदम अशांत हो चुका था. इस रूल को फॉलो करने के दौरान आप को यह खुद ही महसूस होने लगता है कि आप उस रिश्ते में ज़्यादा खुश थे या उस रिश्ते से अलग हो कर ज़्यादा खुश और शांत हो.

यह इस रूल का बहुत बड़ा फायदा है. कुछ समय में ही आप को पता चल जायेगा कि आपका एक्स आप के लिए बना है या नहीं मलतब वो आप के लिए बेहतर है या नहीं.

How long should I give up after no contact? कब नो कोन्टक्ट रूल खत्म करके ज़िन्दगी में आगे बढना चाहिए?

no contact rule kya hai

हर एक चीज़ की एक लिमिट होती है, अगर आप इस रूल को काफी समय तक सही तरीके से फॉलो कर चुके हो और वो सब कुछ कर चुके हो जो आप को करना चाहिए, और इसके बाद भी अगर आप का पार्टनर आप के प्रति कुछ अच्छा महसूस नहीं करता और वो खुद को बदलने के लिए बिलकुल तैयार नहीं है और सारा का सारा इलज़ाम आप पर डाल दिया हो.

अगर वो अभी भी आपको control करना चाहता हो, आपको नीचा दिखाना चाहता हो तो मेरे दोस्त! आगे बढ़ो और अपनी ज़िन्दगी मज़े से जियो.

ये भी पढ़ें: आखिर कैसे उभरें ब्रेकअप के दर्द से और जिंदगी में आगे बढें? 

Make it simple, देखो सामने वाला इन्सान आपके worth है, उसकी value है, उसको आप ज़िन्दगी में चाहते हो, ताकि उसको महसूस हो, in सब चीजों को observe करो उसके बाद no contact अप्लाई करो.


निष्कर्ष:

No contact rule खुद को बदलने के लिए होता है, खुद को improve करने के लिए होता है. आपकी insecurities को खतम करने के लिए, आपको एक बेहतर इन्सान बनाने लिए होता है ताकि आप भविष्य में रिश्तों को अच्छे से निभा सको.
याद रखना अगर किसी के दिल में आप के लिए असली भावनाएं होंगी तो वो ज़रूर आएगा ही आएगा, किसी को ज़बरदस्ती अपनी जिंदगी  में लेकर नहीं आ सकते आप.

अगर आपका कोई सवाल या कोई राये हो तो comment करें या Contact Us पर जा कर message करें.

10 thoughts on “How to apply No Contact Rule in Perfect Way? (Hindi)”

    • Dekhiye, chahe usne har jagah se block bhi kra ho chahe kuch bhi kra ho lekin agr aap dono ke bich emotions aur achi feelings wala relation tha aur ydi aap isko ache trike se handle kar lete ho to wo vapis zrur aayega. Baki aap hume Instagram pe bhi msg krke detail me bta skte hai apni condition ke bare me, aapki puri sahayta ki jayegi.

      Reply
  1. Mai Bahut koshis krti hu unse baat na krne ki massage na krne ki par fir bhi khud aage hoke call krti hu

    Mujhe ab asa lagane lag gaya hai jese meri koi self respect hi nhi hai
    Asa lgta hai uss insan ke bina shayad mai ek din bhi nahi rah skti

    Wo jese chahe mujhe control kr skta hai
    Abhi humari ladai sirf shadi ki wajah se ho rhi h

    Hum pichhale 4 and half year se relationship me hai

    Samjh nahi aata hai kya kru

    Reply
    • Raanu ji mai aapki condition samjhta hu, aisa lgna k aap unke bina reh hi nhi skte ye sb normal hai aisa hota hai. Lekin ye zindgi bahut bdi hai, kisi ek insan ki vajah se aap apni zindgi khrab nhi kr skte.
      Aise rishte jisme aapko khusiyon ki bjaye ldayian or preshaniya or insult hi milti ho, wo koi rishta nhi hota.

      Yad rakho koi bhi insan apke maa-baap or apki self respect se bda nhi hota. कृपया अपनी ईमेल चेक करें.

      Reply

Leave a Comment

%d bloggers like this: