Thirsty Crow Story in Hindi | प्यासा कौआ की कहानी » Love Define

Thirsty Crow Story in Hindi | प्यासा कौआ की कहानी

Thirsty crow story in hindi with moral

Thirsty crow short story in hindi: दोस्तो, गर्मियों का मौसम था और इस बार गर्मी कुछ ज़्यादा ही थी, क्योंकि बिना नये पेड़ पौदे लगाये, जो पेड़ पौदे थे उन्हें भी काटने के कारण नदियाँ और तालाब सब सूख गए थे.

इतने में वहां कहीं से उड़ते हुए एक प्यासा कौआ (thirsty crow) आता है. गर्मी के कारण उसका हाल-बेहाल था और वो वो सोच रहा था कि कहीं उसे थोडा पानी पीने को मिल जाए. इसलिए वो पानी की खोज में निकल पड़ा.

उड़ते उड़ते कौए ने तालाब-नदियाँ सब तलाश करे. गर्मी के कारण सब सूख चुके थे. कौवे की प्यास और भी बढने लगी और उसने अपनी खोज जारी रखी.

यह भी पढ़ें: अपनी औकात बढ़ाना सीखो – हिंदी कहानी   

इतने में उसको एक कुआँ नजर आया. कुआँ को देख आर कौवा बड़ा खुश हुआ लेकिन जैसे ही कौवा ने कुएं में देखा तो कुआँ बिना पानी सूखा पड़ा है. ये देख कर कौवा बड़ा दुखी हुआ और वहां से उड़ गया.

thirsty crow story in hindi

उड़ते-उड़ते उसकी नज़र एक घर क पास रखा हुआ मटके पर गयी. वो उसके पास गया और जैसे ही उसने मटके के अंदर देखा तो मटके में पानी बहुत ही कम था, जिससे कौवे की चोंच वहां तक नहीं पहुँच सकती थी. वो बहुत दुखी हुआ, उसने घड़े को पलटाने की भी कोशिश की ताकि पानी निचे निरने पर वो उसमें से थोडा पानी पी सके.

लेकिन उसमें इतनी ताकत नहीं थी कि वो ऐसा कर सके. कौवा कुछ समय तक कोशिश करता रहा.

लेकिन इतने में उसकी नजर पास पड़े छोटे छोटे कंकडों पर पड़ी.

तभी उसको एक विचार आया और वो एक एक करके कंकडों को उस मटके में डालने लगा. ऐसा करते-करते धीरे धीरे पानी उपर आने लगा. फिर कौवे ने पानी पीकर अपनी प्यास भुजाई और ख़ुशी ख़ुशी उड़ गया !!

इस कहानी से क्या सीख मिलती है – moral of the story

तो दोस्तों, इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि मुसीबत चाहे कितनी भी बड़ी क्यों ना हो, अगर हम हिम्मत नहीं हारेंगे और हार नहीं मानेगे तो हम उस मुसीबत को खत्म कर सकते हैं.

अगर कौवा हर जगह से पानी न मिलने पर वो हार मान के बैठ जाता तो उसे कभी भी पानी नहीं मिलता.

Pyasa kauwa poem in hindi

एक कौवा प्यासा था,
गाँव का तालाब सूखा था !!
पानी की मिली ना बूँद,
होने लगी आँखें मूँद !!
सूखे पेड़ पर था खड़ा,
दिखा मिट्टी का घड़ा !!
घड़े में पानी थोडा था,
मुंह उसका भी छोटा था !!

कौवे ने डाला कंकड़,
पानी आया ऊपर !!
कौवे ने पिया पानी,
खत्म हुई कहानी !!
कौवे ने पिए पानी,
खत्म हुई कहानी !!

हमें उम्मीद है आपको “thirsty crow story in hindi” pyasa kauwa kahani और pyasa kauwa poem in hindi अच्छी लगी होगी और आपको जीवन के लिए एक अच्छी सीख मिली होगी. कमेंट करके अपने विचार साँझा कर सकते हैं.

और पढ़ें:

1 thought on “Thirsty Crow Story in Hindi | प्यासा कौआ की कहानी”

Leave a Comment

%d bloggers like this: